करोड़पति बनना चाहते हैं , म्यूचुअल फंड का 15 /15/15 मंत्र

Mutual fund 15 15 15 rule:
अगर आप भी कम समय में करोड़पति बनना चाहते हैं तो ये खबर जरूर पढ़ लें. आज यहां हम निवेश के कुछ ऐसे टिप्स बता रहे हैं जिससे आप बस 15 साल में 15000 के निवेश के साथ 1 करोड़ रुपये की जमा पूंजी पा सकते हैं.

इन इंफ्रा स्टॉक्स में बने निवेश के मौके, Mutual Funds के फेवरेट

क्या है 15-15-15 नियम?

15 15 15 में तीन बार लिखा गया 15 ग्रोथ रेट, निवेश की अवधि और सेविंग का मंथली अमाउंट को बताता है. इसके अनुसार, अगर आप सालाना 15 फीसदी का रिटर्न चाहते हैं तो आप 15 साल हर महीने 15000 रुपये की बचत कर सकते हैं. इससे आप आसानी से करोड़पति बन जाएंगे.

 

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ZERODHA

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ALICE BLUE

15-15-15 का फॉर्मूला

अगर आप भी सिक्योर निवेश के साथ करोड़पति बनना चाहते हैं तो फटाफट ये खबर पढ़ लें. म्यूचुअल फंड में निवेश खास नियम से निवेश करने पर आपको आसानी से 1 करोड़ रुपये का फंड मिल जाएगा. ये नियम है- ’15-15-15′ का जो आपको बचत और निवेश करने में मदद करता है. आइए जानते हैं इसके बारे में. 

15- ग्रोथ रेट
15- निवेश की अवधि
15- सेविंग का मंथली अमाउंट

अगर अप इस नियम से  हिसाब लगाएं तो हर महीने 15000 रुपये के साथ आप 15 साल में 27 लाख रुपये जमा कर सकेंगे. इस जमा राशि पर आपको 73 लाख रुपये का फायदा होगा. इस तरह आपके हाथ में महज 15 साल के निवेश पर पूरी रकम 1 करोड़ रुपये आएगी.

ऐसे मिलेंगे 1 करोड़

15 फीसदी का सालाना रिटर्न थोड़ा मुश्किल जरूर लगता है. लेकिन ये निवेश आपको लॉन्ग टर्म में 12 परसेंट की ग्रोथ आराम से देगा.

15 फीसदी तक रिटर्न ले जाने के लिए एसआईपी में निवेश करें.

एसआईपी के जरिये चरणबद्ध तरीके से अपना निवेश बढ़ाएं

आप देखेंगे कि बिना किसी बोझ के आपके पास 1 करोड़ रुपये आ जाएंगे.

एसआईपी के लिए सबसे अच्छा होता है कि हम महंगाई दर को देखें, उससे पार पाने के लिए निवेश का लक्ष्य तय करें.

फिर इस हिसाब से एसआईपी में निवेश बढ़ाते रहें.

SIP से मिलेगा मोटा फंड

आप हर हाल में SIP के जरिये निवेश तो बढ़ाए ही,चक्रवृद्धि ब्याज बनाने वाले साधनों में निवेश पर जोर भई दें. अगर आप इस साधारण नियम को ध्यान में रखते हुए निवेश करेंगे तो आप अधिक रकम जमा कर सकेंगे. यहां एसआईपी का सीधा मतलब है लॉन्ग टर्म के लिए व्यवस्थित निवेश योजना. आमतौर पर एक निवेश योजना 10, 20 या 30 साल के लिए शुरू की जा सकती है.

 

Best Dividend Stocks forever

Stocks with a low dividend yield

  • Mphasis
  • Hindustan Unilever
  • Mahindra
  • Larsen and Toubro
  • Tech Mahindra
  • HCL Technologies

Stocks with a medium dividend yield

  • Tata Steel
  • ONGC
  • Infosys
  • Marico
  • UPL
  • Parimal

Stocks with high dividend yield

  • ITC Ltd
  • Ambuja Cement
  • Power Grid
  • GAIL
  • Hero
  • Vedanta

Stocks with very high dividend yield.

  • Coal India
  • NTPC
  • Indian Oil
  • Indus Tower
  • Hindustan Zinc

 

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ZERODHA

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ALICE BLUE

मल्टीबैगर ALERT! – इन्वेस्टर के लिए ट्रेडर के लिए नहीं

TCS Buy Back- Guaranteed 15% retuns in 2 months

MFU BOX- Mutual Fund Distributor/RIA – Full Back-Office Platform

MFU BOX- Mutual Fund Distributor/RIA – Full Back-Office Platform

एमएफयू बॉक्स एक पूर्ण बैक-ऑफिस प्लेटफॉर्म प्रदान करके एमएफडी और आरआईए की कार्यक्षमता को मजबूत करेगा जो तकनीकी रूप से अभिनव कार्यक्षमताओं से लैस है।

India, 19th Nov 2021: MF Utilities brought together renowned industry leaders and market experts as they discussed key topics concerning the mutual fund industry at its Unboxing MFU BOX event. On November 17th, the indigenously designed MFU BOX, a comprehensive state-of-the-art back-office system, was launched at a webinar hosted on communication medium Zoom on 17th Nov, 2021. Following the MFU BOX launch, CEOs and industry leaders presented their perspectives on the mutual fund business. Mr. A. Balasubramanian, Chairman AMFI, MD & CEO, Aditya Birla Sun Life AMC, along with Mr. Saurabh Nanavati, Chairman, MF Utilities, CEO, Invesco AMC, and Ms. Radhika Gupta, Vice Chairman AMFI, MD & CEO, Edelweiss AMC, shared their outlooks on the changing market dynamics of the mutual fund industry. The event featured industry speakers who shared their views on expert-moderated panel discussions about contemporary challenges impacting the mutual fund community and was attended by over 900 participants.

DEMAT अकाउंट खोलने के लिए यहाँ क्लिक करे और घर बैठे अकाउंट रेडी। 5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

MFU BOX will strengthen the functionality of MFDs and RIAs by providing a full back-office platform that is equipped with technologically innovative functionalities. This feature-rich solution will significantly enhance and augment the offerings of investors and the entire Mutual Fund industry for greater reach and faster response. The revolutionary system provides user-defined trend analytics, multidimensional transactional analysis, 360-degree client view, model portfolio, rebalancing, and behavioral risk assessment. MFU BOX exhibits the potential to process revenue and profitability modules with a pre-built BCP and includes a cloud-based data security framework.

Mr. A. Balasubramanian, Chairman, AMFI & MD&CEO, Aditya Birla Sun Life Mutual Fund said regarding MFU, “We have witnessed the growth and power of MFU over a period of time and it is truly phenomenal. MFU is very close to my heart and I am glad that it is quickly becoming a reliable and trustworthy platform that will only take the mutual funds industry to greater heights. The potential for MFU to become a onestop platform for the entire Mutual Funds industry is the very reason why it was created by UK Sinha, Exchairman, SEBI. In many ways, MFU is very similar in framework and potential to the banking industry. I am excited to witness MFU launching this complete back-office solution as this will further augment the recognition and appreciation for MFU BOX as a powerful platform and enhance the overall performance of the industry and the investors in specific. The Government of India is extremely satisfied with how the MF Industry has been channelizing and being a counterforce to the capital market while overdelivering on its commitments to the various stakeholders.

Ms. Radhika Gupta, Vice Chairman AMFI, MD & CEO, Edelweiss AMC said that “MFU BOX is an exciting and promising name for an AMC industry product. The industry needs more distributors and we are on the cusp of a transformation that is viable and scalable by what MFU brings to the table. The shift from real assets to financial assets will certainly put the MF industry on a growth trajectory. With the added input and push from relevant technological solutions such as BOX, MFU is bringing this evolution to reality faster than anticipated. The MF industry will greatly profit from this revolutionary back-office platform and will ease the workload and better the response rate for clients and all stakeholders.“

 Details Video for UnderstandClick Here 

_____________________________________________________________________
Also Read:
1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान
————————————————————————————————–

Mr. Saurabh Nanavati, Chairman, MF Utilities, CEO, Invesco AMC was hailing the unveiling of MFU BOX and said, “Digital is the way forward and MFU is leading the way for the industry. To grow and scale the mutual funds’ industry, technological innovations are necessary to be injected seamlessly into the system. Today, every business is growing by leaning on technology and the digitization of products has helped bring newer clients within the industry. MFU has helped realize this need and has rapidly provided the industry with a very relevant platform to expand and enhance its services. MFU BOX will empower investors to boost their offerings much more efficiently and effortlessly.

According to Mr. Ganesh Ram, MD & CEO, MF Utilities, “MFU is proficient in understanding and tapping into the varied needs and requirements of the market. At such a critical time of recovery, MFU BOX is the answer to bringing a faster and more practical way of delivering insights and delivering client expectations. This will help attract more clients to engage and become a part of the mutual funds industry. MFU BOX is the answer to capitalizing on the various needs and giving the entire industry enormous leverage to upscale and expand their business offerings. We believe that BOX will create a positive disruption and infuse a definitive success to all its users with its unique features.”

As of Oct 31st, 2021, MFU handled a total AUS (Asset under services) of 2.94 lakh crore with a turnover of 1.82 Lakhs Crores. Since its inception, MFU saw 12,30,330 SIP and 7,54,320 CAN (Universal Account Number) registrations apart from managing 14,61,913 NCTs (Non-commercial transactions) and a combined 34,973 registrations for DST (Distributors) and RIA (Registered Investment Advisors).

Pls find attached Presentation for more awareness- CLICK HERE

हमेशा डिविडेंड के लिए ये वाला शेयर
Rs.2,5,0000 से ऊपर प्रोविडेंड फण्ड (PF) इनकम पर देना होगा आपको टैक्स 1 Apr 2021

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

धन्यवाद !

अशोक कुमार
AG Investment

 

Mutual Funds Client KYC के लिए परेशान क्यों हो ? NOW DO IT ONLINE

अगर आप म्यूच्यूअल फंड्स डिस्ट्रीब्यूटर है और आपको अपने क्लाइंट की kyc घर बैठे करना है तो आप ये वीडियो जरूर देखे और अपने दोस्तों में भी शेयर करे

E-KYC Decalation Form

 

बिजनेस अपॉरटूनिटी

अगर आप म्यूच्यूअल फण्ड के साथ हेल्थ इन्शुरन्स, लाइफ इन्शुरन्स, शेयर ट्रेडिंग इत्यादि का भी काम घर बैठे करना चाहते है तो जरूर लिखे
आप केवल एक काम करते है तो आपके क्लाइंट्स आपके पास नहीं रह सकते क्योकि उनको को सब कुछ चाहिए

तो आप सिर्फ एक काम क्यों ?

बनिए आज का स्मार्ट डिस्ट्रीब्यूटर और अपना बिजनेस बढ़ाये

शेयर मार्किट में कैसे इन्वेस्ट करे

जुड़े अभी
लिखे [email protected]

 

बैड बैंक (BAD BANK ) क्या है ? इसके घोषणा से क्यों भागे बैंको के शेयर्स

बैड बैंक (BAD BANK ) क्या है ? इसके घोषणा से क्यों भागे बैंको के शेयर्स

बैड बैंक (bad bank) फाइनेशिंयल सिस्टम से डूब चुके कर्जों को निपटाने में अहम भूमिका अदा करेगा।
बैंक अपने bad loan को डिस्काउंट पर bad bank को ट्रांसफर कर सकेंगे। उसके बाद bad bank के एक्सपर्ट इन बुरे लोन के निपटाने के लिए प्रोफेशनल तरीके से कोशिश करेंगे जबकि बैंक नए सिरे से अपने नए कारोबार पर फोकस कर सकेंगे।

5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

कई वर्षों बैड बैंक की डिमांड हो रही थी , जिससे लोन लेकर न चुकाने वालो की समस्या को दूर किया जाये। अब जाकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने bad bank की स्थापना का ऐलान कर दिया।
इस संस्था क गठन bad loan की समस्या से जुझ रहे बैंकों को राहत दिलाना है। bad bank एक एसेट रिकंस्ट्रशन कंपनी (ARC) मॉडल पर आधारित होगा।

बैड बैंक bad bank क्या है?

2018 में सरकार ने पब्लिक सेक्टर बैंकों के लिए प्रोजेक्ट सशक्त नाम के एक योजना का ऐलान किया था । जिसके तहत सरकारी बैंकों के bad loan से निपटने के लिए 5 सूत्री  योजना तैयार की गई थी। उस  समय सरकार ने कहा था कि एसेट मैनजमेंट कंपनी के तर्ज पर एक संस्था का गठन किया जाएगा। जो बैंकों  के एसेट  टर्न अराउंड, जॉब क्रिएशन औऱ प्रोटेक्शन पर फोकस करेगा।

तब सरकार ने इसे बैड बैंक bad bank का नाम नहीं दिया था और यह साफ किया था कि  यह bad loan की सफाए की प्रक्रिया संलग्न नहीं होगा बल्कि इस प्रक्रिया का संचालन बैंकों द्वारा ही जाएगा।

अब सरकार ने बैड बैंक badbank की स्थापना का ऐलान किया है।

लोन से निपटने का सबसे सस्ता विकल्प होगा ये बैड बैंक

बैंकों के एनपीए के नेट वैल्यू में भारी गिरावट देखने को मिली है। इसके पहले bad bank नहीं बनाया गया, इसकी वजह यह थी कि कुछ समय पहले बैंकों के नेट बुक वैल्यू बहुत ज्यादा थी, जिसकी वजह से इन एसेट का ट्रांसफर काफी मंहगा पड़ता। आज की स्थिति  में बैंकों के एनपीए की नेटबुक वैल्यू काफी कम है तमाम मामलों में ये मुश्किल से  15 फीसदी है। इसके साथ ही बैंकों ने एनपीए से निपटने के लिए प्रोविजन भी कर रखें है। इस स्थिति में  bad bank  बनाना एक अच्छा विकल्प है।

Also Read:
1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान

बैंक शेयर्स क्यों टॉप पर भागे

मैंने अपने यूट्यूब चैनल पर आपको पहले ही बता दिया था की आप बैंक के शेयर्स जो सस्ते रेट पर मिल रहा है। जिसमे SBI , ICICI के बारे में स्पेशलय आपको बोलै था लेने के लिए। उसका मुख्या कारन बैड बैंक पर विचार था।

अब जब बैड बैंक बन जायेगे तब बैंको को होने वाले घाटे में सुधर होगा और बैंक अपना काम सही तरह से कर पाएंगे। यही कारन है की बाजार को ये गोवेर्मेंट का फैसला अच्छी लगी और बैंक के शेयर्स आकाश छूने लगे।

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

धन्यवाद !

अशोक कुमार
AG Investment

चेक कीजिये फ्रेंक्लिन टेम्पलटन से आपका पैसा आया या नहीं  ?

चेक कीजिये फ्रेंक्लिन टेम्पलटन से आपका पैसा आया या नहीं ?

फ्रैंकलिन टेंपलटन से 20 दिनों के भीतर निवेशकों को ₹9,122 करोड़ वितरित करेगा।

  • शीर्ष अदालत ने एसबीआई म्यूचुअल फंड को वितरण करने का निर्देश दिया है
  • फ्रैंकलिन टेंपलटन एमएफ ने 23 अप्रैल, २०२० को मुक्ति के दबाव और बांड बाजार में तरलता की कमी का हवाला देते हुए छह ऋण म्यूचुअल फंड योजनाओं को बंद कर दिया

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फ्रैंकलिन टेंपलटन को अप्रैल २०२० में म्यूचुअल फंड हाउस द्वारा बंद की गई छह योजनाओं के यूनिटधारकों के बीच ९,१२२ करोड़ रुपये वितरित करने का निर्देश दिया है । शीर्ष अदालत ने निर्देश दिया है कि एसबीआई म्यूचुअल फंड द्वारा किए जाने वाले धन का वितरण और वितरण को 20 दिनों के भीतर पूरा करने की आवश्यकता है ।

शीर्ष अदालत ने निर्देश दिया कि यूनिटधारकों को योजना की परिसंपत्तियों में उनके संबंधित हिस्से के अनुपात में चुकाया जाना चाहिए।

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने कहा है कि अप्रैल में बंद होने के बाद से उसकी छह बंद योजनाओं को परिपक्वता, पूर्व भुगतान और कूपन भुगतान से ₹१४,३९१ करोड़ रुपये मिले हैं ।

फ्रैंकलिन टेंपलटन एमएफ ने रिडेम्पशन प्रेशर और बॉन्ड मार्केट में लिक्विडिटी की कमी का हवाला देते हुए 23 अप्रैल, २०२० को छह डेट म्यूचुअल फंड स्कीम्स बंद कर दीं ।

DEMAT अकाउंट खोलने के लिए यहाँ क्लिक करे और घर बैठे अकाउंट रेडी। 5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

योजनाएं-फ्रैंकलिन इंडिया लो टर्म फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनेमिक उपार्जन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम अपॉर्च्युनिटीज फंड–एक साथ मैनेजमेंट (एयूएम) के तहत संपत्ति के रूप में अनुमानित ₹२५,० करोड़ थे ।

फंड हाउस ने एक बयान में कहा, “छह योजनाओं को 29 जनवरी, २०२१ तक 14,391 करोड़ रुपये का कुल नकद प्रवाह प्राप्त हुआ है, जो समापन के बाद से परिपक्वता, कूपन और पूर्व भुगतान से है ।

ताजा पखवाड़े (16-29 जनवरी) में इन योजनाओं को 602 करोड़ रुपये मिले, जिनमें से 350 करोड़ रुपये पूर्व भुगतान के रूप में थे।

व्यक्तिगत रूप से फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड, फ्रैंकलिन इंडिया लो टर्म फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनेमिक उपार्जन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड और फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान में क्रमशः 65 फीसदी, 53 फीसदी, 41 फीसदी, 27 फीसदी और 11 फीसदी कैश में हैं।

फ्रैंकलिन इंडिया इनकम अपॉर्च्युनिटीज फंड में उधारी के स्तर में लगातार गिरावट जारी है और वर्तमान में एयूएम का 5 प्रतिशत है ।

फ्रैंकलिन टेंपलटन एमएफ ने कहा कि इन पांच नकद सकारात्मक योजनाओं के लिए 29 जनवरी तक नकद उपलब्ध 9,770 करोड़ रुपये है, बढि़यों से चल रहे खर्चों के अधीन।

शेष 4,621 करोड़ रुपये का उपयोग छह योजनाओं पर उधार और ब्याज चुकाने के लिए किया गया है।

Read

1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान

3-IPO में 7500 रुपए का एक लॉट कर सकता है सेबी

वरिष्ठ नागरिकों निवेशकों के लिए FLOATING RATE FUNDS IS BEST OPTIONS

फ्लोटिंग रेट फंड लंबी अवधि के लिए वरिष्ठ नागरिकों निवेशकों के लिए सबसे अच्छा विकल्प में से एक है

देखते हैं कैसे

5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

फ्लोटिंग रेट फंड क्या है?
एक फ्लोटिंग रेट फंड एक फंड है जो एक चर या फ्लोटिंग ब्याज दर का भुगतान करने वाले वित्तीय साधनों में निवेश करता है। एक फ्लोटिंग रेट फंड बांड और ऋण उपकरणों में निवेश करता है जिनके ब्याज भुगतान अंतर्निहित ब्याज दर स्तर के साथ घटते हैं। आमतौर पर, एक निश्चित दर निवेश एक स्थिर, उम्मीद के मुताबिक आय होगी । हालांकि, ब्याज दरों में वृद्धि के रूप में, निश्चित दर निवेश बाजार से पीछे है क्योंकि उनका रिटर्न निश्चित रहता है।

फ्लोटिंग रेट फंड्स का उद्देश्य निवेशकों को बढ़ती दर के माहौल में लचीली ब्याज आय प्रदान करना है। नतीजतन, फ्लोटिंग रेट फंड्स को लोकप्रियता मिली है क्योंकि निवेशक अपने पोर्टफोलियो की उपज को बढ़ावा देने के लिए तत्पर हैं।

मुख्य टेकअवे

1-एक फ्लोटिंग रेट फंड एक फंड है जो एक चर या फ्लोटिंग ब्याज दर का भुगतान करने वाले वित्तीय साधनों में निवेश करता है। एक फ्लोटिंग रेट फंड बांड और ऋण उपकरणों में निवेश करता है जिनके ब्याज भुगतान अंतर्निहित ब्याज दर स्तर के साथ घटते हैं।
2-फ्लोटिंग रेट फंड्स में कॉर्पोरेट बॉन्ड के साथ-साथ बैंकों द्वारा कंपनियों को दिए गए लोन को भी शामिल किया जा सकता है । इन ऋणों को कभी-कभी फिर से पैक किया जाता है और निवेशकों के लिए एक फंड में शामिल किया जाता है। हालांकि, लोन डिफॉल्ट रिस्क ले सकते हैं ।
3-हालांकि फ्लोटिंग फंड बढ़ती दर के माहौल में पैदावार की पेशकश के बाद से वे बढ़ती दरों के साथ उतार चढ़ाव, निवेशकों को धन में निवेश और निधि होल्डिंग्स अनुसंधान के जोखिम तौलना चाहिए ।

कुछ बेहतरीन फ्लोटिंग रेट फंड

लगातार 8% और उससे अधिक रिटर्न निवेशकों के लिए अच्छा है और मेरी समझ के अनुसार वरिष्ठ नागरिकों के लिए इसका बहुत अच्छा फंड है । हमें फ्लोटिंग दर में अपने ऋण कोषों को निश्चित रूप से पार्क करना चाहिए

1-Aditya Birla Sun Life Floating Rate Fund – Regular Plan – Growth

Fund Performance(As On Aug 24, 2020)

PeriodAbsolute Returns(%)CAGR(%)Benchmark ReturnsSIP Returns
1 Week-0.09-4.550.14N.A
1 Month0.22.330.54N.A
3 Months2.349.081.67.84
6 Months4.669.353.2410.09
1 Year8.728.726.679.27
3 Years26.068.027.48.69
5 Years49.318.348.098.34
10 Years1348.877.568.67
Inception158.718.67N.AN.A

Sector wise Asset Allocation(as on Jul 31, 20)

SectorAllocationValue
Financial61.75%4010.56
Sovereign11.13%723.32
Others10.86%705.59
Energy6.74%437.73
Services6.21%403.65
Diversified3.08%200.24
Engineering0.27%17.59
100.04%6498.68

2-Nippon India Floating Rate Fund-Growth

Fund Performance(As On Aug 24, 2020)

PeriodAbsolute Returns(%)CAGR(%)Benchmark ReturnsSIP Returns
1 Week-0.29-14.970.14N.A
1 Month-0.21-2.470.54N.A
3 Months2.7410.621.67.44
6 Months5.6211.283.2411.78
1 Year10.3710.376.6711.3
3 Years25.227.787.49.4
5 Years47.258.048.098.42
10 Years125.838.487.568.42
Inception234.447.84N.AN.A

Sector wise Asset Allocation(as on Jul 31, 20)

SectorAllocationValue
Financial45.35%6151.53
Sovereign24.48%3322.30
Others14.89%2020.79
Engineering6.57%892.35
Energy5.59%759.80
Diversified2.71%367.66
Communication0.39%53.55
99.98%13567.99

म्यूचुअल फंड रिटर्न कम है, क्या एसआईपी बंद कर दें?

36 साल के Mr कुमार ने 2017 में म्यूचुअल फंड में निवेश शुरू किया। वह इसमें 10-12 साल तक निवेश करना चाहते थे, पर इनमें रिटर्न उतने अधिक नहीं है, जिससे उनकी चिंता बढ़ गई। वह जानना चाहते हैं क्या उन्हें एसआईपी (SIP) ( सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) में निवेश बंद कर देना चाहिए?

कोविड-19 के कारण यह सवाल बार-बार पूछा जा रहा है, क्योंकि शेयर बाजार अनिश्चित है, अर्थव्यवस्था में गिरावट है लोगों की आय घटी है और एसआईपी का प्रदर्शन अच्छा नहीं है।

एसआईपी में निवेश रोकने के कारण-
फंड का खराब प्रदर्शन
नौकरी जाना या वेतन में कटौती
आर्थिक अनिश्चितता
फंड वैल्यू में आई गिरावट

पहले खुद से पूछें कि म्यूचुअल फंड में पैसा क्यों लगाया था। इसमें निवेश के पीछे एक लक्ष्य होता है। जब आप लंबे समय का लक्ष्य जैसे कार खरीदने, बच्चों की शिक्षा या रिटायरमेंट, ध्यान में रख निवेश करते हैं, तो निवेश की अवधि पांच से 20 साल की होती है। मान लें कि आप कार खरीदना चाहते हैं, जिसकी कीमत पांच साल बाद 7.5 लाख रुपये होगी। कर्ज लेकर खरीदने पर यह एक बड़ी रकम होगी।

पर आप बचत कर कार खरीदना चाहें, तो हर महीने निवेश करना होगा। एसआईपी के जरिए निवेश लोगों में लंबे समय तक चोटे निवेश की आदत डालता है। रुपया-लागत अनुपात एसआईपी का दूसरा लाभ है- यानी बाजार गिरने पर आप ज्यादा यूनिट खरीदते हैं, और जब बाजार उठता है, तब कम यूनिट खरीद पाते हैं। इससे लंबे समय में प्रति इकाई औसत लागत कम पड़ती है।

निवेश रोकना क्यों गलत है

अगर आप एसआईपी रोककर अपना निवेश बंद कर देते हैं, तो इसका अर्थ है, कि आपने शेयर बाजार से लाभ कमाने का अवसर गंवा दिया है। अलग-अलग समय पर निवेश करने पर कैसा रिटर्न मिलता है, यह समझने के लिए हम 10 साल की तान अवधि, 2000-2009, 2005-2014 और 2010-2019 को लेते हैं। इन निवेशों को परखने के लिए हर मामले में प्रत्येक महीने के अंत में बीएसई इंडेक्स में सूचीबद्ध एस एंड पी में एसआईपी में 1,000 रुपये का निवेश किया गया। जिन निवेशकों ने 10 साल या 20 साल का निवेश किया (जैसे कि ए बी सी डी), उस पर मुद्रास्फीति या 2008 की वैश्विक मंदी का कोई असर नहीं था।

Also Read:
1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान

——————————————————————————————————

आपको क्या करना चाहिए

अगर पैसे के अभाव में आप भविष्य के लिए निवेश नहीं कर सकते, तो एसआईपी पॉज (दो-तीन महीने के लिए निवेश रोक देना) का विकल्प आजमा सकते हैं या एसआईपी में निवेश तब तक रोक सकते हैं, जब तक कि आप की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं हो जाती। अगर फंड का प्रदर्शन इसके बेंचमार्क (मानक) और पीयर्स (दूसरे फंड) की तुलना में लगातार खराब है, तो आपको दूसरे फंड में निवेश करने के बारे में सोचना चाहिए। आपके पास कम रुपये, तो एसआईपी में कम रुपए डालें, पर एसआईपी को अचानक से न रोकें।

धैर्य का फल मीठा

निवेशक एनिवेशक बीनिवेशक सीनिवेशक डी
निवेश अवधिजनवरी 2000 – दिसंबर 2019जनवरी 2000 – दिसंबर 2009जनवरी 2005 – दिसंबर 2014जनवरी 2010 – दिसंबर 2019
एसआईपी2,40,0001,20,0001,20,0001,20,000
एसआईपी की वैल्यू10,54,0003,58,0002,20,1582,07,963
रिटर्न (आंतरिक प्रतिफल दर फीसदी)13.20 फीसदी21.7 फीसदी12.76 फीसदी10.85 फीसदी

बाजार के नीचे गिरने से चिंतित निवेशक को जल्दी ही अपने निवेश से बाहर निकलने से नुकसान हुआ। निवेशक ई अगर और पांच महीने निवेश करते, तो उन्हें ज्यादा लाभ मिलता।

अवसर खोनानिवेशक ईनिवेशक ई – 1
निवेश अवधिजनवरी 2005 – जुलाई 2008जनवरी 2005 – दिसंबर 2009
एसआईपी43,00060,000
एसआईपी की वैल्यू55,75091,786
रिटर्न(आंतरिक प्रतिफल दर फीसदी)16.32 फीसदी18 फीसदी

For More Details Visit to www.agindiaonline.com