Top pick After Budget

बजट के बाद इन 10 शेयरों में बनेगा मुनाफा! ब्रोकरेज ने दिया 3-6 महीने का टारगेट 

Budget 2022 Top Picks: ब्रोकरेज फर्म ICICI डायरेक्‍ट रिसर्च ने टेक्निकल आउटलुक के आधार पर 10 शेयर को अपनी बजट पिक में शामिल किया है. ब्रोकरेज इन शेयरों में अगले 3-6 महीने के टाइम फ्रेम के साथ निवेश की सलाह दी है.

Budget 2022 Top Picks: वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) 1 फरवरी को बजट 2022-23 के लिए बजट पेश करेंगी. शेयर बाजार और निवेशकों की भी बजट (Budget) पर नजर है. बजट से बाजार को बूस्टर मिलने की उम्‍मीद है. बजट से पहले अगर पोर्टफोलियो के लिए स्‍टॉक स्‍ट्रैटजी बनाई जाए, तो बजट के बाद दमदार मुनाफा हो सकता है. ब्रोकरेज फर्म ICICI डायरेक्‍ट रिसर्च ने टेक्निकल आउटलुक के आधार पर 10 शेयर को अपनी बजट पिक में शामिल किया है. ब्रोकरेज इन शेयरों में अगले 3-6 महीने के टाइम फ्रेम के साथ निवेश की सलाह दी है. यानी, बजट के बाद इन स्‍टॉक्‍स में निवेशकों को अच्‍छा रिटर्न मिल सकता है. रिसर्च फर्म का मानना है कि बजट पिक में शामिल शेयर टेक्निकल चार्ट पर बेहतर नजर आ रहे हैं. फंडामेंटल नजरिए से भी यह दमदार हैं.

Budget Top 10 Picks
 

लार्सन एंड टुब्रो (Larsen & Toubro) 
टारगेट प्राइस: 2,168
बाइंग रेंज: 1840-1915 

 एक्सिस बैंक (Axis Bank) 

टारगेट प्राइस: 870
बाइंग रेंज: 738-785 

टाटा मोटर्स (Tata Motors) 
टारगेट प्राइस: 555
बाइंग रेंज: 475-503  

यूनाइटेड स्प्रिट्स (United Spirits) 
टारगेट प्राइस: 970
बाइंग रेंज: 805-845  

बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) 
टारगेट प्राइस: 116
बाइंग रेंज: 98-105  

कन्‍टेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (Container Corporation of India) 
टारगेट प्राइस: 698
बाइंग रेंज: 600-630  

 

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ZERODHA

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ALICE BLUE

मल्टीबैगर ALERT! – इन्वेस्टर के लिए ट्रेडर के लिए नहीं

MFU BOX- Mutual Fund Distributor/RIA – Full Back-Office Platform

MFU BOX- Mutual Fund Distributor/RIA – Full Back-Office Platform

एमएफयू बॉक्स एक पूर्ण बैक-ऑफिस प्लेटफॉर्म प्रदान करके एमएफडी और आरआईए की कार्यक्षमता को मजबूत करेगा जो तकनीकी रूप से अभिनव कार्यक्षमताओं से लैस है।

India, 19th Nov 2021: MF Utilities brought together renowned industry leaders and market experts as they discussed key topics concerning the mutual fund industry at its Unboxing MFU BOX event. On November 17th, the indigenously designed MFU BOX, a comprehensive state-of-the-art back-office system, was launched at a webinar hosted on communication medium Zoom on 17th Nov, 2021. Following the MFU BOX launch, CEOs and industry leaders presented their perspectives on the mutual fund business. Mr. A. Balasubramanian, Chairman AMFI, MD & CEO, Aditya Birla Sun Life AMC, along with Mr. Saurabh Nanavati, Chairman, MF Utilities, CEO, Invesco AMC, and Ms. Radhika Gupta, Vice Chairman AMFI, MD & CEO, Edelweiss AMC, shared their outlooks on the changing market dynamics of the mutual fund industry. The event featured industry speakers who shared their views on expert-moderated panel discussions about contemporary challenges impacting the mutual fund community and was attended by over 900 participants.

DEMAT अकाउंट खोलने के लिए यहाँ क्लिक करे और घर बैठे अकाउंट रेडी। 5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

MFU BOX will strengthen the functionality of MFDs and RIAs by providing a full back-office platform that is equipped with technologically innovative functionalities. This feature-rich solution will significantly enhance and augment the offerings of investors and the entire Mutual Fund industry for greater reach and faster response. The revolutionary system provides user-defined trend analytics, multidimensional transactional analysis, 360-degree client view, model portfolio, rebalancing, and behavioral risk assessment. MFU BOX exhibits the potential to process revenue and profitability modules with a pre-built BCP and includes a cloud-based data security framework.

Mr. A. Balasubramanian, Chairman, AMFI & MD&CEO, Aditya Birla Sun Life Mutual Fund said regarding MFU, “We have witnessed the growth and power of MFU over a period of time and it is truly phenomenal. MFU is very close to my heart and I am glad that it is quickly becoming a reliable and trustworthy platform that will only take the mutual funds industry to greater heights. The potential for MFU to become a onestop platform for the entire Mutual Funds industry is the very reason why it was created by UK Sinha, Exchairman, SEBI. In many ways, MFU is very similar in framework and potential to the banking industry. I am excited to witness MFU launching this complete back-office solution as this will further augment the recognition and appreciation for MFU BOX as a powerful platform and enhance the overall performance of the industry and the investors in specific. The Government of India is extremely satisfied with how the MF Industry has been channelizing and being a counterforce to the capital market while overdelivering on its commitments to the various stakeholders.

Ms. Radhika Gupta, Vice Chairman AMFI, MD & CEO, Edelweiss AMC said that “MFU BOX is an exciting and promising name for an AMC industry product. The industry needs more distributors and we are on the cusp of a transformation that is viable and scalable by what MFU brings to the table. The shift from real assets to financial assets will certainly put the MF industry on a growth trajectory. With the added input and push from relevant technological solutions such as BOX, MFU is bringing this evolution to reality faster than anticipated. The MF industry will greatly profit from this revolutionary back-office platform and will ease the workload and better the response rate for clients and all stakeholders.“

 Details Video for UnderstandClick Here 

_____________________________________________________________________
Also Read:
1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान
————————————————————————————————–

Mr. Saurabh Nanavati, Chairman, MF Utilities, CEO, Invesco AMC was hailing the unveiling of MFU BOX and said, “Digital is the way forward and MFU is leading the way for the industry. To grow and scale the mutual funds’ industry, technological innovations are necessary to be injected seamlessly into the system. Today, every business is growing by leaning on technology and the digitization of products has helped bring newer clients within the industry. MFU has helped realize this need and has rapidly provided the industry with a very relevant platform to expand and enhance its services. MFU BOX will empower investors to boost their offerings much more efficiently and effortlessly.

According to Mr. Ganesh Ram, MD & CEO, MF Utilities, “MFU is proficient in understanding and tapping into the varied needs and requirements of the market. At such a critical time of recovery, MFU BOX is the answer to bringing a faster and more practical way of delivering insights and delivering client expectations. This will help attract more clients to engage and become a part of the mutual funds industry. MFU BOX is the answer to capitalizing on the various needs and giving the entire industry enormous leverage to upscale and expand their business offerings. We believe that BOX will create a positive disruption and infuse a definitive success to all its users with its unique features.”

As of Oct 31st, 2021, MFU handled a total AUS (Asset under services) of 2.94 lakh crore with a turnover of 1.82 Lakhs Crores. Since its inception, MFU saw 12,30,330 SIP and 7,54,320 CAN (Universal Account Number) registrations apart from managing 14,61,913 NCTs (Non-commercial transactions) and a combined 34,973 registrations for DST (Distributors) and RIA (Registered Investment Advisors).

Pls find attached Presentation for more awareness- CLICK HERE

हमेशा डिविडेंड के लिए ये वाला शेयर
Rs.2,5,0000 से ऊपर प्रोविडेंड फण्ड (PF) इनकम पर देना होगा आपको टैक्स 1 Apr 2021

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

धन्यवाद !

अशोक कुमार
AG Investment

 

1 साल में दे चुके हैं 400% तक का रिटर्न 

1 साल में दे चुके हैं 400% तक का रिटर्न 

आशीष कचोलिया ने इन 4 शेयरों में खरीदी हिस्‍सेदारी, 1 साल में दे चुके हैं 400% तक का रिटर्न

Ashish Kacholia Portfolio: बाजार के दिग्गज निवेशकों में से एक आशीष कचोलिया (Ashish Kacholia) ने दिसंबर तिमाही के दौरान चार और शेयरों पर नया दांव खेला है. इनमें जेनेसिस इंटरनेशनल कॉर्प (Genesys International Corp), इगरशी मोटर्स इंडिया (Igarashi Motors India), यूनाइटेड ड्रीलिंग्‍स टूल्‍स (United Drilling Tools) और SJS इंटरप्राइसेज (SJS Enterprises) शामिल हैं. ऑटो और कंज्यूमर कंपनियों के लिए लोगो बनाने वाली SJS इंटरप्राइसेज की 15 नवंबर 2021 को मार्केट में लिस्टिंग हुई थी.

दिसंबर तिमाही में इन 4 नए शेयरों की खरीदारी  

आशीष कचोलिया ने दिसंबर तिमाही में जेनेसिस इंटरनेशनल कॉर्प में 1.95 फीसदी (608,752 शेयर) हिस्‍सेदारी खरीदी है. इसकी मार्केट वैल्‍यू 35.5 करोड़ रुपये है. वहीं, इगरशी मोटर्स में कचोलिया ने 1.27 फीसदी (399,550 शेयर) स्‍टेक खरीदा है. इसकी वैल्‍यू 20.5 करोड़ है. जबकि, यूनाइटेड ड्रीलिंग टूल्‍स में कचोलिया ने 2.58 फीसदी स्‍टेक (524,005 शेयर) खरीदा है. इसकी वैल्‍यू 30.6 करोड़ रुपये है. दूसरी ओर, नवंबर 2021 में लि‍स्‍टेड SJS इंटरप्राइसेज में कचोलिया की 3.77 फीसदी (1,148,342 शेयर) हिस्‍सेदारी है, जिसकी मार्केट वैल्‍यू 48.6 करोड़ रुपये है.

मिडकैप -बाजार में दौड़ लगाने को तैयार हैं

1 साल में 400% तक का मिला रिटर्न

आशीष कचोलिया को मिड और स्मॉलकैप स्पेस में मल्टीबैगर स्टॉक चुनने के लिए जाना जाता है. कचोलिया ने जिन 4 शेयरों में नई खरीदारी की है, उनमें कई शेयर मल्‍टीबैगर रहे हैं. Genesys International Corp का बीते एक साल का रिटर्न 402 फीसदी रहा है. Igarashi Motors India के स्‍टॉक्‍स में 1 साल में 45 फीसदी का उछाल रहा है. United Drilling Tools के शेयर में निवेशकों को एक साल के दौरान 93 फीसदी का दमदार रिटर्न मिला है. वहीं, हाल ही में लिस्‍ट SJS इंटरप्राइसेज के शेयर एक महीने में 7 फीसदी तक उछल चुके हैं.

आशीष कचोलियो के पोर्टफोलियो में 31 शेयर

दिग्‍गज निवेशक आशीष कचोलिया (Ashish Kacholia) के पोर्टफोलियो में अब 31 शेयर हो चुके हैं. इनमें हॉस्पिटैलिटी, एजुकेशन, इंफ्रा और मैन्युफैक्चरिंग से जुड़े स्टॉक शामिल हैं. इनके पोर्टफोलियो पर स्टॉक मार्केट में निवेश करने वाले लोगों की नजर रहती है. कचोलिया पोर्टफोलियो की 14 जनवरी को नेटवर्थ 1,955.7 करोड़ रुपये से ज्‍यादा रही.

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ZERODHA

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ALICE BLUE

मिडकैप -बाजार में दौड़ लगाने को तैयार हैं

बाजार में दौड़ लगाने को तैयार हैं,

Best Midcap Stocks:मिडकैप स्टॉक्स रिटेल निवेशकों की हमेशा से पसंद रहे हैं. इसके पीछे वजह है कि इस सेग्मेंट में निवेश के ज्यादा और एक से बढ़कर एक विकल्प मौजूद हैं. इकोनॉमिक रिकवरी और बेहतर मैक्रो कंडीशंस में मिडकैप का प्रदर्शन भी बेहतर रहता है. बीते 1 साल की बात करें तो बहुत से मिडकैप शेयरों में जोरदार तेजी आ चुकी है. लेकिन इस रैली में भी बहुत से मिडकैप ऐसे हैं, जो मजबूत फंडामेंटल के बाद भी नहीं चल पाए हैं या उनमें करेक्शन रहा है. फिलहाल अब ये आकर्षक वैल्युएशन पर हैं और शॉर्ट टर्म से लॉन्ग टर्म में अच्छी रैली दिखाने को तैयार हैं. आज इस लिस्ट में Karur Vyasa Bank, Minda Corp, Rallis India, JK Paper, Sumitomo Chemical और Jubilant Pharmova जैसे शेयर शामिल हैं. जी बिजनेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के साथ बात चीत में मार्केट एक्सपर्ट जय ठक्कर और एनलिस्ट अंबरिश बलिगा ने अपनी पसंद के रूप में इन्हें चुना है. आप भी इनमें पैसे लगाकर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं.

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ZERODHA

Open DEMAT ACCOUNT FREE- ALICE BLUE

अंबरिश बलिगा की पंसद

लॉन्ग टर्म: Karur Vyasa Bank

अंबरिश बलिगा ने लॉन्ग टर्म के लिए Karur Vyasa Bank में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 70 रुपये का टारगेट रखा है. बैंक के देशभर में 781 ब्रॉन्च हैं. साउथ इंडिया बेस्ड बैंक की एडवांस में 7 फीसदी ग्रोथ रही है. डिपॉजिट ग्रोथ भी बेहतर है. स्टॉक बीते 2 साल में अंडरपरफॉर्मर रहा है. लेकिन अब बेहतर फाइनेंशियल प्रदर्शन के चलते ग्रोथ का अनुमान है.

पोजिशनल: Minda Corp

अंबरिश बलिगा ने पोजिशनल पिक के रूप में Minda Corp में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 230 रुपये का टारगेट रखा है. 6 देशों में कंपनी का प्लांट है. यह आटो एंसिलरी की मजबूत कंपनी है. कंपनी का प्रोडक्ट पोर्टफोलियो मजबूत है.

शॉर्ट टर्म: Rallis India

अंबरिश बलिगा ने शॉर्ट टर्म के लिए Rallis India में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 310 रुपये का टारगेट रखा है. यह एक लीडिंग एग्रो केमिकल कंपनी है. कंपनी का प्रोडक्ट पाइपलाइन मजबूत है. दिसंबर तिमाही में मजबूत प्रदर्शन रहने का अनुमान है.

जय ठक्कर की पसंद

लॉन्ग टर्म: JK Paper

जय ठक्कर ने लॉन्ग टर्म के लिए JK Paper में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 330 रुपये का टारगेट रखा है. जबकि 160 रुपये पर स्टॉप लॉस रखने की सलाह है. शेयर में अच्छा खासा करेक्शन देखने को मिल चुका है. लेकिन अब लॉन्ग टर्म इंडीकेटर पॉजिटिव हैं. स्टॉक में रिस्क रिवार्ड अच्छा बना है.

पोजिशनल: Sumitomo Chemical

जय ठक्कर ने पोजिशनल पिक के रूप में Sumitomo Chemical में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 505 रुपये का टारगेट रखा है. जबकि 349 रुपये पर स्टॉप लॉस रखने की सलाह है. शेयर में अब पॉजिटिव मोमेंटम बनता दिख रहा है. स्टॉक में रिस्क रिवार्ड अच्छा बना है.

शॉर्ट टर्म: Jubilant Pharmova

जय ठक्कर ने शॉर्ट टर्म के लिए Jubilant Pharmova में निवेश की सलाह दी है. शेयर के लिए 650 रुपये का टारगेट रखा है. जबकि 546 रुपये पर स्टॉप लॉस रखने की सलाह है.

मल्टीबैगर ALERT! – इन्वेस्टर के लिए ट्रेडर के लिए नहीं

यूपीआई (UPI FRAUD) धोखाधड़ी से दूर रहने के लिए पांच टिप्स

FIVE TIPS TO STAY AWAY FROM UPI FRAUDS

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर के मुताबिक, महामारी से भारत के पेमेंट लैंडस्केप के डिजिटाइजेशन में तेजी आई । सितंबर 2020 में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) लेनदेन की संख्या बढ़कर 180 करोड़ से अधिक हो गई और 3 लाख करोड़ रुपये से अधिक मूल्य में।

डिजिटल भुगतान के बढ़ने के साथ, धोखाधड़ी स्कैमर में भी वृद्धि हुई है जिसका लक्ष्य निर्दोष लोगों को उनकी मेहनत से कमाया गया धन का छल करना है । मई 2020 में एक सर्वेक्षण में पाया गया कि भारत में 31% उत्तरदाता हाल ही में कार्ड धोखाधड़ी या डिजिटल भुगतान का शिकार हुए थे या किसी और को जानते थे। जब डिजिटल भुगतान करने की बात आई तो स्कैम होने की संवेदनशीलता सबसे बड़ी चिंताओं में से एक रही ।

5 मिनट में भारत का नंबर 1 डीमैट खाता खोलने के लिए यहां क्लिक करें

यदि आप अपने डिजिटल भुगतान करने के लिए यूपीआई ऐप्स के नियमित उपयोगकर्ता हैं, तो घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। समाज के हर वर्ग के पास धोखाधड़ी करने वाले व्यक्ति हैं जो तेजी से पैसा बनाने की तलाश में हैं और नए बढ़ते डिजिटल भुगतान क्षेत्र कोई अपवाद नहीं है। सतर्क और सतर्क रहकर आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपका पैसा सुरक्षित रहे और आप यूपीआई फ्रॉड के शिकार न बनें।

1- अपने वित्तीय विवरण साझा न करें :
आप अपना पासवर्ड दूसरों के साथ साझा नहीं करते हैं, है ना? इसलिए, जब वित्तीय जानकारी जैसे कि आपका एटीएम/डेबिट कार्ड पिन, आपका सीवीवी नंबर, आपके सुरक्षा उत्तर या अपना ओटीपी पिन की बात आती है, तो उसी सलाह का पालन करें । बेहतर अभी भी, सुनिश्चित करें कि आपके पास हर चीज के लिए एक ही पिन नहीं है। यदि आपका एटीएम पिन आपके यूपीआई पिन के समान है, तो आप धोखाधड़ी की अधिक संभावनाओं के लिए खुद को खुला छोड़ देते हैं।

2-यूपीआई आईडी की जांच करें :
भारतीय स्टेट बैंक को ट्वीट कर लोगों को सही पीएम केयर फंड में दान करने की चेतावनी दी थी जिसमें [email protected] की यूपीआई आईडी थी। बैंक ने लोगों को आगाह किया कि कई फर्जी लेकिन इसी तरह लग रही यूपीआई आईडी ([email protected], [email protected] आदि) सामने आई थी ताकि असावधान लोगों को गलत आईडी पर पैसे भेजने में छल किया जा सके ।

यह सलाह है कि आप अपने पसंदीदा UPI एप्लिकेशन के माध्यम से हर लेनदेन के लिए सही रहता है । डबल और ट्रिपल-यूपीआई आईडी की जांच करें जहां आप अपना पैसा भेज रहे हैं और यह सुनिश्चित करें कि “पैसे भेजें” बटन दबाने से पहले यह सही है।

3-यदि आपको धन प्राप्त हो रहा है तो अपने यूपीआई पिन को इनपुट न करें :
ऐसे घोटालों की खबरें आ रही हैं जहां लोगों को एक जालसाज से “प्राप्त” अनुरोध के जवाब में अपने यूपीआई पिन को इनपुट करने में बेवकूफ बनाया गया है । यह आमतौर पर तब होता है जब पीड़ित कुछ बेचने की तलाश में होता है और उनका संपर्क एक जालसाज से होता है जो उन्हें आश्वस्त करता है कि वे अपने यूपीआई पिन को इनपुट करके पैसे प्राप्त कर सकते हैं ।

सतर्क रहें! याद रखें कि आपको पैसे प्राप्त करने के लिए अपने यूपीआई पिन को इनपुट करने की आवश्यकता नहीं है। ऐसा करने के लिए आपसे पूछने वाला कोई भी एक स्कैमर है।

4-घोटाले से सावधान रहें केवाईसी कॉल
आपको आधिकारिक-लग रहे लोगों से फोन कॉल मिल सकते हैं जो आपको आश्वस्त करते हैं कि उन्हें केवाईसी (KYC) साख के लिए आपकी प्रोफ़ाइल अपडेट करने की आवश्यकता है। वे आपको अपने खाते तक पहुंच खोने जैसे गंभीर परिणामों की चेतावनी देंगे यदि आप अनुपालन नहीं करते हैं और आपको अपना यूपीआई पिन और अन्य वित्तीय डेटा प्रदान करने के लिए कहेंगे। इस तरह के कॉल पर कभी भी गोपनीय वित्तीय डेटा जैसे कि आपका यूपीआई पिन न दें। याद रखें कि कोई भी बड़ा पेमेंट प्रोवाइडर आपसे निजी जानकारी जैसे यूपीआई पिन, नेट बैंकिंग पासवर्ड या एटीएम नंबर नहीं मांगेगा। ऐसे कॉल करने वालों की तुरंत रिपोर्ट करें।

सुनिश्चित करें कि आप सुरक्षित हैं :
आपके मोबाइल डिवाइस पर एक मजबूत सुरक्षा समाधान आपको सुरक्षित रखने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। क्विक हील टोटल सिक्योरिटी आपके सभी वित्तीय लेनदेन को सुरक्षित करने के लिए SafePe सहित उन्नत सुविधाओं के साथ आपके एंड्रॉइड स्मार्टफोन के लिए बेहतर सुरक्षा प्रदान करती है।

हमेशा डिविडेंड के लिए ये वाला शेयर

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

धन्यवाद !

अशोक कुमार
AG Investment

Rs.2,5,0000 से ऊपर प्रोविडेंड फण्ड (PF) इनकम पर देना होगा आपको टैक्स 1 Apr 2021

सरकार ने 1 अप्रैल, २०२१ से शुरू होने वाले हर साल २.५ लाख रुपये से ऊपर के सभी पीएफ योगदान पर ब्याज आय पर कर लगाने का प्रस्ताव किया है 

2.5 लाख रुपये से अधिक के योगदान के लिए ईपीएफ ब्याज पर आयकर पर बजट दिशानिर्देश :

भविष्य निधि कर्मचारियों द्वारा सबसे सुरक्षित सेवानिवृत्ति विकल्प माना जाता है। वित्त मंत्री ने घोषणा की कि यदि कोई कर्मचारी एक साल में 2.5 लाख रुपये से अधिक के भविष्य निधि में योगदान दे रहा है, तो आयकर का भुगतान करने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए यदि कोई कर्मचारी भविष्य निधि में 3 लाख रुपये का योगदान दे रहा है, तो उन्हें वृद्धिशील 50K अंशदान (3 लाख रुपये माइनस 2.5 लाख रुपये की छूट) पर प्राप्त ब्याज पर कर का भुगतान करना होगा।

क्या यह केवल कर्मचारी भविष्य निधि पर लागू होता है?

यह कर्मचारियों द्वारा किए गए सभी भविष्य निधि अंशदान यानी ईपीएफ (कर्मचारी भविष्य निधि) के साथ-साथ वीपीएफ (स्वैच्छिक भविष्य निधि) पर लागू होगा।

कौन प्रभावित हो जाएगा और कौन नहीं?

इस परिवर्तन के साथ, आइए देखें कि कौन प्रभावित होगा और कौन दिशा-निर्देशों में इस तरह के परिवर्तन से प्रभावित नहीं होगा । किसी को ध्यान देना चाहिए कि यह कर केवल अतिरिक्त कर्मचारी अंशदान के लिए प्राप्त ब्याज पर लागू किया जाता है । नियोक्ता का योगदान यहां तस्वीर में नहीं आएगा ।

1) मासिक मूल वेतन < 1.73 लाख रुपये – केवल ईपीएफ में योगदान

जिन कर्मचारियों को 1.73 लाख रुपये का मासिक मूल वेतन मिल रहा है और कर्मचारी भविष्य निधि में योगदान दे रहे हैं, 1.73 लाख रुपये = 20,760 रुपये का वार्षिक भविष्य निधि अंशदान 249,120 रुपये होगा। यह 2.5 लाख रुपये की सीमा के भीतर है। इसलिए इस पर मिलने वाले ईपीएफ ब्याज पर कोई आयकर देय नहीं है।

2) मासिक मूल वेतन > 1.73 लाख रुपये – केवल ईपीएफ में योगदान

जिन कर्मचारियों को 1.73 लाख रुपये से अधिक मासिक मूल वेतन मिल रहा है और कर्मचारी भविष्य निधि में योगदान दे रहे हैं, उन्हें ईपीएफ के 2.5 लाख रुपये से अधिक वृद्धिशील अंशदान पर प्राप्त ब्याज पर आयकर का भुगतान करने की आवश्यकता है।

जैसे मान लें कर्मचारी मासिक मूल वेतन 2 लाख रुपये और ईपीएफ अंशदान का कर्मचारी हिस्सा 24,000 रुपये (2 लाख x 12%) है। सालाना ईपीएफ अंशदान 288,000 रुपये (24,000 x 12 महीने) है। अब यह 2.5 लाख रुपये (38,000 रुपये से अधिक) की सीमा से बाहर है। अब कर्मचारियों को इस वृद्धिशील राशि पर मिलने वाले ब्याज पर आयकर का भुगतान करने की जरूरत है। उदाहरण के लिए अगर ईपीएफ का ब्याज 38,000 रुपये = 3,040 रुपये पर 8% है। इस राशि पर आयकर का भुगतान करने की जरूरत है।

3) मासिक मूल वेतन < 1.73 लाख रुपये – ईपीएफ + वीपीएफ में योगदान

कई कर्मचारी रिटायरमेंट के लिए बचत करने के लिए वीपीएफ में भी योगदान दे रहे हैं । जिन कर्मचारियों को 1.73 लाख रुपये का मासिक मूल वेतन मिल रहा है और कर्मचारी भविष्य निधि में योगदान दे रहे हैं, 1.73 लाख रुपये का 12% = 20,760 रुपये का वार्षिक योगदान 249,120 रुपये होगा। मान लीजिए कि वे 12% की दर से वीपीएफ में भी योगदान दे रहे हैं (उदाहरण के रूप में)। वीपीएफ + ईपीएफ पर योगदान की गई राशि के साथ, यह 5 लाख रुपये का योगदान होगा। किसी को 2.5 लाख रुपये (5 लाख रुपये माइनस 2.5 लाख रुपये की छूट) से अधिक अंशदान के लिए प्राप्त ब्याज पर आयकर का भुगतान करने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए 2.5 लाख रुपये पर एक को 8% पीएफ ब्याज = 20,000 रुपये मिल रहा है। ऐसे ब्याज पर आयकर का भुगतान करने की जरूरत है ।

ईपीएफ ब्याज पर 2.5 लाख रुपये से अधिक के आयकर का कितना भुगतान करने की आवश्यकता है?

कई कर्मचारी स्वैच्छिक भविष्य निधि (वीपीएफ) का चयन कर रहे हैं क्योंकि इस तरह के योगदान पर ब्याज अब तक कर मुक्त है। 2.5 लाख रुपये से अधिक के अतिरिक्त अंशदान पर प्राप्त किसी भी ब्याज, कर्मचारियों को आयकर का भुगतान करने की आवश्यकता है। अब इस आयकर को अलग-अलग टैक्स स्लैब के आधार पर घोषित और भुगतान करने की जरूरत है। एचएनआई/उच्च वेतन वाले व्यक्तियों/कर्मचारियों के लिए जो ईपीएफ + वीपीएफ दोनों में योगदान दे रहे हैं, इस तरह के बदलाव के साथ बहुत बड़ा प्रभाव डालेंगे क्योंकि वे 20% या 30% कर ब्रैकेट में गिर सकते हैं ।
सरकारी कर्मचारियों के लिए ईपीएफ अंशदान मूल वेतन + महंगाई भत्ते के आधार पर किया जाएगा, इसलिए उन्हें अपनी गणना में इस पर विचार करने की जरूरत है ।

नया वेतन कोड आपके भविष्य निधि को प्रभावित कर सकता है

1-अप्रैल-2021 से प्रभावी, एक नया वेतन कोड आ रहा है जो मूल वेतन की परिभाषा का विस्तार करेगा। आधार वेतन में वृद्धि होगी जिससे आपका ईपीएफ अंशदान भी बढ़ेगा। यह उन कर्मचारियों के लिए प्रभाव डालेगा जिनके पास अधिक पारिश्रमिक है, लेकिन बुनियादी वेतन कम है । यह इस बात पर ध्यान दिया जा रहा है कि आपको अप्रैल-21 से वेतन वृद्धि मिल रही है या नहीं । इस नए वेज कोड के कारण आपके सैलरी स्ट्रक्चर में बदलाव होने की स्थिति में आप अपने पेरोल डिपार्टमेंट के संपर्क में रह सकते हैं।

क्या तब कर बचाने के लिए कोई विकल्प है?

ईपीएफ/वीपीएफ प्रकार की बचत को कुछ भी नहीं हरा सकता है जहां किसी को सुरक्षित और अधिक ब्याज मिलता है। यदि आपका भविष्य निधि अंशदान 2.5 लाख रुपये प्रति वर्ष पार कर रहा है और आपका नियोक्ता एनपीएस की पेशकश कर रहा है, तो आप इसका विकल्प चुन सकते हैं। आप एनपीएस में फिक्स्ड इंस्ट्रूमेंट्स + गवर्नमेंट सिक्योरिटीज ऑप्शन का विकल्प चुन सकते हैं और इक्विटी से बच सकते हैं। इक्विटी के लिए आपके पास अपना निवेश प्लान हो सकता है। इस तरह आप एनपीएस से रेगुलर रिटर्न जेनरेट कर सकते हैं। इसके लिए आप हमारे वेबसाइट www.agindiaonline.com पर विजिट कर सकते है या हमें संपर्क करके अपना प्लानिंग कर सकते है

यदि आपको इस लेख का आनंद लिया गया है, तो इसे फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से अपने दोस्तों और सहकर्मियों के साथ साझा करें।

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

 

धन्यवाद !

 

अशोक कुमार
AG Investment

फ्रॉड – क्या आपने पालिसी Digital National Motor Insurance से लिया है ?

फ्रॉड – क्या आपने पालिसी Digital National Motor Insurance से लिया है ?

IRDAI डिजिटल राष्ट्रीय मोटर बीमा द्वारा धोखाधड़ी की जनता की चेतावनी दी,

बीमा क्षेत्र के नियामक आईआरडीएआई (भारतीय बीमा नियामक विकास प्राधिकरण) ने बिना लाइसेंस के पॉलिसियों को बेचने में डिजिटल नेशनल मोटर इंश्योरेंस द्वारा धोखाधड़ी और धोखाधड़ी का शिकार होने के खिलाफ आम जनता को आगाह किया है।

आईआरडीएआई के ध्यान में यह बात सामने आई है कि #DNMI कंपनी लिमिटेड
पोर्टल कार्यालय,
कृष्णा राजा पुरम, बीमा जानकारी भवन, देवसंद्रा,
बैंगलोर से संचालित “डिजिटल नेशनल मोटर इंश्योरेंस” के नाम से एक इकाई – 560036
में [email protected] वेबसाइट https://dnmins.wixsite.com/dnmins और ईमेल आईडी है, हालांकि बीमा पॉलिसियों को बेचने के लिए प्राधिकरण द्वारा लाइसेंस या पंजीकरण नहीं किया गया है।

प्राधिकरण जनता को आगाह करता है कि वह मेसर्स डिजिटल नेशनल मोटर इंश्योरेंस के साथ बीमा व्यवसाय से संबंधित कोई लेन-देन न करे। इसके द्वारा आईआरडीएआई जनता से आग्रह करता है कि वह सतर्क रहे और धोखाधड़ी का शिकार न हो और उपरोक्त इकाई द्वारा लिप्त धोखाधड़ी का शिकार न हो । इसके द्वारा बीमा नियामक जनता से आग्रह करता है कि वह सतर्क रहे और उक्त इकाई द्वारा धोखाधड़ी और धोखाधड़ी का शिकार न हो ।

Also Read:
1 -LIC जीवन शांति पॉलिसी में एकमुश्त निवेश कर पा सकते हैं हर महीने 4 लाख रुपये पेंशन, जीवनभर मिलता रहेगा फायदा
2 -LIC Jeevan Labh पॉलिसी में रोजाना 280 रुपये का निवेश कर, पाएं 20 लाख, जानें क्या है ये पूरा प्लान

आप अपना सुझाव हमें निचे कमेंट बॉक्स में दे सकते है। अगर आपको किसी और सब्जेक्ट के बारे में कोई सुझाव चाहिए तो जरूर लिखे.

धन्यवाद !

अशोक कुमार
AG Investment

6 Stocks will give best value, you should must hold till 2022

The Corona crisis, china’s border tensions and stock market and several domestic & global reasons impacted share market. But even in such times, there are many companies whose shares have performed strongly

Cement Sector :

The cement sector is also expected to perform well. Big companies like ACC, Ultratec, Grasim should perform well. This is because when the government spends more, its thrust is on infrastructure. It is directly related to cement.

Two-Wheeler Sector :

Domestic and international sales of companies like Hero Motocorp, TVs and Bajaj Auto will increase. The stocks of these companies will perform well in the coming days.

FMCG Pharma sector :

FMCG are expected to have a strong performance of shares of Hindustan Lever, Marian, Dabur and ITC.

IT and Technology Sector :

TCS, Infosys, HCL and Mindtree are also expected to perform well in the coming days as the demand for technology products in the world is increasing.

 

 

 

IRDAI COVID cover: All you need to know about this new product

Even though the lockdown is gradually being lifted in India, the case count has been rising across the country. Keeping this in view, the Insurance Regulatory and Development Authority of India (IRDAI) has come up with a standard individual Covid-19 product.

In view of the global pandemic Covid-19, the Authority has decided to mandate all general and health insurers to offer a standard individual COVID-19 health insurance product that will be a COVID-19 specific product addressing basic health insurance needs of the public related to Covid-19. The policy should also have a standard product with common policy wordings across the industry.

IRDAI’s COVID cover is a draft product for now, and the regulator has asked both the general and health insurance companies to ensure that this product is compulsorily offered on or before June 15. While comparing with the existing health insurance policies in the market covering the Covid-19 treatment, the fresh IRDAI guidelines and caps are limited to COVID-specific products that will be issued over the next 10 days.

The Financial Express reviewed a copy of Irdai’s draft guidelines. According to the draft guidelines, the insurer has also included the treatment of Covid-19 patients in makeshift hospitals, while the existing health insurance policies do not cover that. As add on covers, only 2 add-ons are allowed to be offered along with the standard Covid-19 product: Quarantine Cover, and Hospital Daily Cash cover. The premium payable towards these 2 add-ons needs to be specified separately so as to enable policyholders to pick, choose, and pay based on the need.

Features of the IRDAI’s COVID cover

  • This cover comes with a minimum sum insured of Rs 50,000, and a maximum sum insured of Rs 5 lakh. The ICU charges have been capped at Rs 10,000 per day, room charges have been capped at Rs 5,000 per day, and quarantine charges at Rs 3,000 per day.
  • The tenure of the policy is set at one year. It will be available on a family floater basis for individuals with a minimum entry age of 18 years and a maximum of 65 years. The policy will be subject to lifelong renewability.
  • The hospitalization cost covers room, nursing expenses, boarding expenses which is up to 2 per cent of the sum insured, capped at Rs 5,000 per day. It also includes surgeon, consultants, specialist fees, anesthetist, medical practitioner, paid directly to the treating doctor, surgeon, or hospital. Other similar expenses include operation theatre charges, surgical appliances, anesthesia, blood, oxygen, medicines and drugs, costs towards diagnostics, and diagnostic imaging modalities.
  • According to the guidelines, the policy will cover ICU expenses up to 5 per cent of the sum insured, which is capped at Rs 10,000 per day. Expenses incurred on road ambulance is set at Rs 2,000 per hospitalization. The policy will also cover all daycare treatment.
  • The draft guidelines said that the Covid-19 product must be uniform across the market, and should have the basic mandatory covers included.
  • The policy is also supposed to cover expenses incurred on hospitalization under AYUSH medicine will be covered without any sub-limits under the policy.
  • Pre-hospitalization medical expenses incurred will also be admissible for a period of 30 days prior to the date of hospitalization. It will also cover the costs of diagnostics towards COVID–19. Post-hospitalisation medical expenses following an admissible claim, incurred for a period of 60 days from the date of discharge, will also be included.
  • If an individual is quarantined due to diagnosis or suspected infection, under the add-on cover, the insurer will pay 1 per cent of the sum insured per day, up to Rs 3,000 per day. The insurer will pay 0.5 per cent of the sum insured per day as daily hospital cash, for every 24 hours of hospitalization on a positive diagnosis of Covid-19.
  • The base covers of standard Covid-19 products will be offered on an indemnity basis. The add-ons, however, will be made available on the basis of the benefits.
  • For the standard, COVID–19 product premium can be made on a monthly, quarterly, half-yearly, and yearly basis, according to the regulator