बाथरूम से जिद्दी दाग और फफूंदी हटाने के उपाय

बाथरूम में लगी फफूंदी को हटाने के उपाए

बाथरूम को अगर समय -समय पर और सही तरीके से साफ़ न किया जाये तो फफूंदी की समस्या होने लगती है। जिसके चलते बाथरूम गन्दा लगने लगता है और फिसलने का भी डर रहता है। अगर आप फफूंदी को साफ़ करने के लिए हर तरह उपाय आजमा चुकी है और कोई असर नहीं दिख रहा है तो सफ़ेद सिरका का इस्तेमाल करके इस समस्या से छुटकारा पा सकती है।
अगर आप जानना चाहती है की बाथरूम में लगी फफूंदी को कैसे हटाया जाये तो इस लेख को आखिर तक जरूर पढ़े –

सफेद सिरका का करें इस्तेमाल

अक्सर यह देखा गया है कि बाथरूम के कोनों या टाइल्स पर फफूंदी जमने लगती है। जिसके कई कारण होते हैं। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको सफेद सिरका का इस्तेमाल करना चाहिए। मार्केट में आपको आसानी से सिरका मिल जाएगा। साथ ही इसके लिए आपको एक स्प्रे बोतल चाहिए होगी, जिसमें आपको इसे डालना होगा। फिर सिरके को फफूंदी वाली जगह पर छिड़काव करके लगभग 15 मिनट के लिए छोड़ दीजिए। (चुटकियों में साफ हो जाएगा बाथरूम) 15 मिनट बाद स्क्रबर की मदद से रगड़कर आसानी से साफ कर लीजिए। साफ करने के बाद पानी से भी साफ कर लीजिए।

बेकिंग सोडा का करे इस्तेमाल

अक्सर फफूंद के दाग बाथरूम के टाइल्स पर लग जाते हैं। जिन्हें साफ करने में काफी मेहनत लगती है। लेकिन आप इसके लिए घरेलू उपाय अपना सकती हैं। इसके लिए आपको बेकिंग सोडा चाहिए होगा। एक बाउल में 3 भाग बेकिंग सोडा और 1 भाग पानी मिलाएं। एक गाढ़ा पेस्ट बना लें। अब फफूंदी वाली जगह पर यह पेस्ट लगाएं। इससे फफूंद के दाग आसानी से हट जाएंगे। इसके बाद दाग वाली जगह पर दोबारा सिरका छिड़कें। फिर एक गीले कपड़े से अच्छे से साफ़ कर लें। फिर पानी से बाथरूम को धो लें।
अगर आप समय – समय पर बाथरूम को साफ़ करती रहेंगी और नमी नहीं रहने देगी तो जिद्दी दाग और फफूंदी जैसी समस्याए पैदा ही नहीं होगी।

आप बाथरूम की सफाई करते समय ध्यान रखे की आपने हाथो में दस्ताने (Gloves) जरूर पहने हो जिससे आपके हाथ कटने – फटने से बचे रहे।

LUCKY PLANTS – घर में गुड लक लेकर आते है ये पौधे

LUCKY PLANTS – घर में गुड लक लेकर आते है ये पौधे

हवा को शुद्ध और साफ रखने के साथ ही धन – पैसा – गुड लक लेकर आते है ये पौधे – इन्हे जरूर लगाए

पेड पौधे खूबसूरती बढ़ने के साथ ही हमारे आसपास के वातावरण को शुद्ध भी बनाते है। अध्ययनों से पता चला है की पौधों को घर ,कार्यक्षेत्र या बैडरूम में रखने से आपका दिमाग और मूड सही रहता है। साथ ही तनाव कम होता है और घर में शांति रहती है। इतना ही नहीं ये पौधे प्रदूषण को कम करते है और ऑक्सीजन भी पैदा करते है। कुछ पौधों को वास्तु शास्त्र में बहुत शुभ माना गया है और अगर इनको घर के अंदर लगाया जाये तो घर से नकरात्मकता दूर होकर आपकी किस्मत चमक जाती है।
ऐसे ही कुछ पौधों के बारे में आपको बताते है –

एलोवेरा

आपको पता है की एलोवेरा आपके सौंदर्य को बढ़ने का काम करता है। आपको जानकार आश्चर्य होगा की ये उन पौधों पौधों में से है जो रात में भी ऑक्सीजन छोड़ते है और हवा को शुद्ध करके आपको शुद्ध वातावरण देता है।

लेवेंडर

लेवेंडर का तेल लम्बे और घने बालो के साथ ही ये आपके तनाव को भी काम करने में मदद करता है। इसको लगाने से आपकी किस्मत भी बदल सकती है

हल्दी का पौधा

हल्दी का पौधा भी बहुत शुभ होता है। यह गुरु ग्रह से सम्बन्ध रखता है और ज्योतिष शास्त्र में सबसे ज्यादा शुभ ग्रह गुरु ग्रह को माना गया है। घर में हल्दी का पौधा लगाकर उसकी पूजा करनी चाहिए। इसके अलावा यह पौधा औषधीय गुणों के लिहाज़ से भी लाभकारी है।

तुलसी का पौधा

तुलसी का पौधा घर में सकरात्मकता और सुख – समृद्धि लता है। तुलसी का पौधा पूजनीय होने के साथ औषधीय गुणों से भरपूर है।

लाजवंती

वास्तु के मुताबिक लाजवंती का पौधा आपके भाग्य को बदल सकता है। इससे आपकी कुंडली में राहु का दोष दूर होगा।
आशा करती हूँ आपको ऊपर दी गयी जानकारी अच्छी लगी होगी। आगे भी आपको इसी तरह की जानकारिया मिलती रहेंगी।

धन सम्बन्धी परेशानियों से छुटकारा पाने के उपाए

धन सम्बन्धी परेशानियों से छुटकारा पाने के उपाए

इन उपायों से धन -हानि की समस्या से मिलेगा छुटकारा,बरसेगी गणपति बप्पा की अपार कृपा

भगवान गणेश प्रथम पूजनीय देव है। किसी भी शुभ काम को करने से पहले भगवान् श्री गणेश की पूजा अर्चना की जाती है।बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित होता है। इस दिन विधि – विधान से भगवान् गणेश जी की पूजा-अर्चना की जाती है।
भगवान् श्री गणेश की कृपा से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। उनकी कृपा से आर्थिक समस्याओ से भी छुटकारा मिल जाता है। आईये जानते है भगवान् गणेश को प्रसन्न करने के लिए क्या करना चाहिए

 

भगवान् गणेश को दूर्वा अर्पित करे
भगवान् गणेश को दूर्वा घास बहुत प्रिय है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए उन्हें दूर्वा घास जरूर अर्पित करना चाहिए। जो भक्त भगवान् को दूर्वा अर्पित करते है उनकी सभी मनोकामनाएं गणेश जी पूरी करते है। आप रोजाना भी भगवान् श्री गणेश को दूर्वा अर्पित कर सकते है। अगर आपके कार्यो में बार – बार विघ्न आ रहा है तो भगवान् गणेश जी को दूर्वा जरूर अर्पित करे।
भगवान् गणेश को सिंदूर लगाए
भगवन गणेश को प्रसन्न करने के लिए उन्हें सिंदूर भी लगाना चाहिए। सिंदूर लगाने से गणपति बप्पा प्रसन्न होते है। आप रोजाना भी भगवान् गणेश जी को सिंदू
र लगा सकते है।
भगवान् गणेश को भोग लगाए
भगवान् गणेश को लड्डू और मोदक काफी प्रिय है। संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान् गणेश को लड्डू और मोदक का भोग जरूर लगाए। भगवान् को भोग लगाने के बाद प्रसाद के रूप मे उनका सेवन जरूर करे।
अंक ज्योतिष आपके सवालों का जवाब देगा

अंक ज्योतिष आपके सवालों का जवाब देगा

अंकशास्त्र के विज्ञान में दिन-प्रतिदिन के मामलों में अनुप्रयोगों की व्यापक गुंजाइश है। यहां आपके किसी भी प्रश्न का अंक ज्योतिष उत्तर जानने की एक विधि दी गई है।

किसी भी प्रश्न का उत्तर देने की किसी भी विधि में प्रश्नकर्ता का अवचेतन मन ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अवचेतन सब कुछ जानता है और अगर टैप किया जाए तो उस व्यक्ति से संबंधित किसी भी प्रश्न का सही उत्तर दे सकता है।

अंकशास्त्र उत्तर – अंकशास्त्र आधारित इस पद्धति को उल्टे पिरामिड विधि कहते हैं।

यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने प्रश्न को सीधे और स्पष्ट तरीके से बताएं। उदाहरण के लिए आप जानना चाहते हैं कि क्या आप परीक्षा में सफल होंगे। आप अपने प्रश्न को कई तरीकों से प्रस्तुत कर सकते हैं जैसे “क्या आप मुझे बता सकते हैं कि मैं परीक्षा में सफल होऊंगा या नहीं? लेकिन यह पूछने का गलत तरीका है क्योंकि यह उत्तर देने वाले संकाय की उत्तर देने की क्षमता पर सवाल उठा रहा है। तो उत्तर हमेशा सकारात्मक ही होगा। यह पूछने का सही तरीका है, “क्या मैं परीक्षा में सफल होऊंगा?”

अंक ज्योतिष की विधि उत्तर  (The Method of Numerology Answer)

इसके लिए या किसी भी प्रकार के अटकल के लिए आपको किसी शांत जगह पर आराम से बैठना चाहिए। आराम करो और खुद को बनाओ। श्वेत पत्र का एक टुकड़ा लें और ऊपर दिए गए मार्गदर्शन के अनुसार अपना प्रश्न स्पष्ट रूप से लिखें। अपनी आँखें बंद करें और अपना ध्यान मानसिक रूप से प्रश्न पर केंद्रित करें और फिर इस प्रकार आगे बढ़ें:

(1) उदाहरण के लिए मान लीजिए कि आपका प्रश्न है: “क्या मुझे संजय शर्मा को पैसे उधार देने चाहिए?” (Should i lend money to Sanjay Sharma)  ऐसे में शांति से बैठें और मानसिक रूप से अपने सामने खड़े व्यक्ति को देखें और फिर उस व्यक्ति को मानसिक रूप से देखते हुए इस प्रश्न को धीरे-धीरे तीन बार दोहराएं।

12345678
ABCDEUOF
IKGMHVZP
jRLTNW
QSX
Y

(2) नीचे दी गई संख्याओं की तालिका से प्रश्न के शब्दों के प्रत्येक अक्षर के अनुरूप संख्याएँ लिखिए। क्या मुझे संजय शर्मा को पैसा उधार देना चाहिए ?

Should I lend money to Sanjay Sharma?

3+5+7+6+3+4, 1, 3+5+5+4, 4+7+5+5+1, 4+7, 3+1+5+1+1+1, 3+5+1+2+4+1

अब प्रत्येक शब्द की संख्याओं को एक साथ जोड़ें और इसे एक अंक की संख्या में इस प्रकार घटाएं:

3+5+7+6+3+4=28=2+8=10=1+0=1
1
3+5+5+4=17=1+7=8
4+7+5+5+1=22=2+2=4
4+7=11=1+1=2
3+1+5+1+1+1=12=1+2=3
3+5+1+2+4+1=16=1+6=7

अतः उपरोक्त प्रश्नों के संगत एकल अंकों की संख्याएँ हैं:
1,1,8,4,2,3,7

(3) उपरोक्त अंतिम संख्याओं को उल्टे पिरामिड की शीर्ष पंक्ति के रूप में लिखें। अपने बाएँ से दाएँ शुरू करते हुए दो (पहली और दूसरी, फिर दूसरी और तीसरी, फिर तीसरी और चौथी और इसी तरह) संख्याओं को जोड़ें और एक अंक तक कम करें और यह दूसरी पंक्ति बनाएगी। इस प्रक्रिया को तब तक जारी रखें जब तक आपको उल्टे पिरामिड के तल पर एक ही संख्या न मिल जाए जैसे इस मामले में हमें ‘1’ मिलता है।

For example the 2nd line of numbers is obtained as follows:

1+1=2
1+8=9
8=4=12=1+2=3
4=2=6
2=3=5
3=7=10=1+0=1 Thus the 2nd line from top becomes: 2,9,3,6,5,1

Numerology Answer

Interpretation …

अब इस अंतिम एकल संख्या के अनुरूप निम्नलिखित तालिका का हवाला देकर अपने प्रश्न के उत्तर की व्याख्या करें: (Now corresponding to this last single number interpret the answer to your question by referring to the following table:)

Final Single NumberResult In GeneralSpecific Result
1Success in General. Positive response to your question.Success in career, father, government (authorities), and gold related queries. Take care of eyes, relations with father
2A little doubtful result.Uncertainty except in mother, mental, silver, liquids, and milk related queries. Take care of eyes, relations with mother and mental peace
3Success in General. Positive response to your question.Success in money, religion, ethics, Guru, teachers, decisions related queries
4The result may go both ways.Uncertainty
5Success in General. Positive response to your question.Success in education, trade, partnership, young people, maternal uncles, intelligence related queries
6Success in General. Positive response to your question.Success in women, comforts, sex, wife, prosperity, vehicles, computers related queries
7The positive results depend more on your luck or divine favour as compared to your efforts.Success in research, electronics, spiritual, occult related queries
8You may expect delays or difficulties in realising your goals. More likely to go against you.Uncertainty, delays, suffering in general but success in steel, iron, machinery, engineering and oils related queries.
9You may expect favourable results particularly in worldly matters.Success in litigation, law, defence, police, courage, property, horse racing and war related queries. Take care against accidents, head injuries and attacks by enemies.
कोई भी प्रश्न जो आप नीचे कमेंट कर सकते हैं।

राजस्थानी गट्टे की सब्ज़ी

राजस्थानी गट्टे की सब्ज़ी

गट्टे की सामग्री :
11/2 कप बेसन
1/4 छोटा चम्मच अजवाइन
1/2 छोटा चम्मच हल्दी
1/2 – 1/2 छोटा चम्मच जीरा,धनिया और लाल मिर्च पाउडर
2 बड़े चम्मच खट्टा दही
2 बड़े चम्मच हींग का पानी
1 बड़ा चम्मच बारीक़ कटा हरा धनिया
स्वादानुसार नमक
मोयन और तलने के लिए तेल

तरी के लिए:
1 प्याज़ बारीक़ कटा
1 छोटा चम्मच लहसुन व अदरक का पेस्ट
1 बड़ा चम्मच टमाटर का पेस्ट
1 छोटा चम्मच साबुत जीरा
1/2 छोटा चम्मच हल्दी
1/2 – 1/2 छोटा चम्मच जीरा,धनिया
1 छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर
2 बड़े चम्मच खट्टा दही
1 बड़ा चम्मच बारीक़ कटा हरा धनिया
स्वादानुसार नमक
3 बड़े चम्मच सरसो का तेल

विधि:
तेल को छोड़ कर गट्टे की सामग्री मिलाये और मोयन डाल कर सख्त आता गूँथ ले। अब इस गुंथे बेसन के पतले रोल तैयार कर ले।
बर्तन में इन्हे रखे और 20 – 25 मिनट तक भाप में पकाये। इसका पानी फैंके नहीं। पकने के बाद इन्हे काट ले। चाहे तो इन्हे तल ले।
कढ़ाई में तेल गर्म करे। जीरा डाले और प्याज़ डाल कर भून ले। अब अदरक लहसुन का पेस्ट डाल कर सुनहरा होने तक भुने। टमाटर का पेस्ट डाले अब हल्दी,लाल मिर्च डाल कर तेल छोड़ने तक भुने। दही मिलाये और उबले गट्टे का पानी मिलाये और उबाल आने दे। अब इसमें नमक डाल कर मिलाये। नमक बाद में डालने से तरी फटेगी नहीं। इसमें तैयार गट्टे डाले और धीमी आंच पर पकने दे। हरा धनिया डाल कर परोसे। गरमा – गर्म गट्टे की सब्ज़ी तैयार है।

गर्मियों में स्किन केयर के लिए मॉइश्चराइजर क्यों है जरूरी?

गर्मियों में स्किन केयर के लिए मॉइश्चराइजर है जरूरी, जानें कैसे?

मई-जून के मौसम की बेतहाशा गर्मी आपकी त्वचा को डिहाईड्रेट कर सकती है, इसलिए गर्मियों के दौरान इसे मॉइश्चराइज रखना महत्वपूर्ण है। यदि आपकी त्वचा तैलीय हो जाती है, तो यह संकेत हो सकता है कि आपकी त्वचा में पानी की कमी हो सकती है। गर्मियों के मौसम में खानपान लेकर हमारे ड्रेसिंग स्टाइल में काफी बदलाव आता है। ऐसे में हमारे स्किन केयर रूटीन में बदलाव आना स्वाभाविक ही है। मॉइश्चराइजर स्किन केयर का एक ऐसा प्रोडक्ट है, जिसे हर मौसम में हर स्किन टाइप के अनुसार लगाया जाता है। त्वचा को हाइड्रेट करने के लिए मॉइश्चराइजर काफी अच्छा माना जाता है। वहीं गर्मियों के मौसम में अधिकतर लोग मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना छोड़ा देते हैं। इस मौसम में स्किन पर काफी पसीना आता है। जिससे त्वचा कफी ऑयली हो जाती है। इस कारण महिलाएं मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना बंद कर देती हैं। जिसका स्किन पर काफी असर पड़ता है। अगर आप भी ऐसा करती हैं तो आपको यह लेख जरूर पढ़ना चाहिए। आइए जानते हैं गर्मियों में मॉइश्चराइजर यूज करने का सही तरीका।

गर्मियों में त्वचा की देखभाल के लिए मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना जरुरी है

गर्मियों में त्वचा की देखभाल की काफी जरूरी होती है। इस मौसम में तेज धूप और सूरज की रोशनी के कारण स्किन ड्राई हो जाती है। गर्मियों में स्किन बेजान और रफ हो जाती है। ऐसे में त्वचा की देखभाल के लिए मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। वहीं गर्मी की वजह से स्किन डिहाइड्रेट हो जाती है। त्वचा को हाइड्रेट करने के लिए मॉइश्चराइजर काफी अहम रोल अदा करता है। तपती गर्मी में फाइन लाइन्स और चेहरे की झुर्रियों से बचाव के लिए भी मॉइश्चराइजर का उपयोग करना चाहिए।

सर्दिया ही नहीं गर्मियों के मौसम में स्किन क्यों जाती हैं ड्राई?

बहुत लोग अक्सर परेशान रहते हैं, भला गर्मियों में स्किन ड्राई क्यों हो रही हैं। यह केवल ड्राई स्किन के साथ नहीं बल्कि ऑयली स्किन के साथ भी होता है। गर्मियों में ऑयली स्किन भी ड्राई हो जाती है। इस मौसम में शरीर नेचुरल ऑयल जिसे सीबम कहा जाता है का उत्पादन रोक देता है जिससे स्किन ड्राई हो जाती है। सीबम की कमी से स्किन रफ और बेजान हो जाती है। ऐसे में मॉइश्चराइजर लगाकर अपनी त्वचा को रूखेपन से बचा सकते है।

चेहरे की झुर्रियों से बचाव

इस मौसम में गर्मी से राहत पाने के लिए घर और ऑफिस में AC का उपयोग किया जाता है। एसी की ठंडी हवा में नमी की कमी होती है, जिसकी वजह से स्किन रफ हो जाती है। ड्राई स्किन पर झुर्रियां और फाइन लाइन्स ज्यादा नजर आते हैं। इस समस्या से बचने के लिए गर्मियों के मौसम में भी मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। यह हमारे स्किन की नमी को बनाए रखते हैं जिससे चेहरे पर झुर्रियां और फाइन लाइन्स नहीं होती है। रात को सोने से पहले चेहरे को साफ करके मॉइश्चराइजर का यूज करना चाहिए।

ग्लोइंग स्किन

गर्मियों के मौसम में गर्म हवा और एसी की ठंडी हवा की वजह से स्किन ड्राई हो जाती है। नमी की कमी की वजह से चेहरे का निखार और ग्लो कम हो जाता है। इस मौसम में चेहरे का ग्लो बरकरार रखने के लिए मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। इस मौसम में आप अपनी स्किन टाइप के अनुसार मॉइश्चाराइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऑयली स्किन के लिए मॉइश्चराइजर

गर्मियों के मौसम में सबसे ज्यादा दिक्कत ऑयली स्किन वालों को होती है। ऐसे में आप ऑयल फ्री मॉइश्चराइजर का उपयोग कर सकती हैं। इससे चेहरे पर एक्सट्रा ऑयल की समस्या भी नहीं होती है। गर्मियों के मौसम में दिन में कम से कम दो बार मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए गर्मियों में किसी हैवी क्रीम की जगह हल्के लोशन या जेल का इस्तेमाल करें, अगर आपकी त्वचा मॉइश्चराइजिंग से पहले या बाद में चिपचिपा पन महसूस करती है। इसका सबसे अच्छा उपाय वॉटर बेस्ड मॉइश्चराइजर होते हैं। ये स्किन को चिपचिपा बनाए बिना नमी देने में मदद करते हैं।

पानी का करें सेवन

गर्मियों के मौसम में त्वचा की देखभाल के लिए दिन में 8 से 9 गिलास पानी का सेवन करना चाहिए। इससे त्वचा हाइड्रेट बनी रहती हैं। गर्मियों के मौसम में त्वचा की देखभाल के लिए नियमित रूप से मॉइश्चराइजर का उपयोग करना चाहिए। उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं